Wapis Bula Le Malik…

Standard

Wapis bulale Malik ab jahan mein kuch na raha./

Apnon ke beech reh kar bhi koyi apna na laga.//

 

Advertisements
Aside

1.

!!…..उलफत हुई मनसे मैली आशिक़ों की…..!!

इश्क़ में कैसी अब ये हवा चली है.!
मुहब्बत से पहले आज़माइश हुई है.!!
यक़ीन नहीं फिर भी यक़ीन करते हैं.!
प्यार में भी दीवाने व्यापार करते हैं.!!
उलफत हुई मनसे मैली आशिक़ों की.!
शादी से पहले जिस्मी प्यार करते हैं.!!
एक ज़माना ऐसा भी गुज़ारा आशिक़ीमें.!
महबूब की खातिर जान क़ुरबान हुई है.!!
“सागर”ना कर वफ़ा की उम्मीद किसी से.!
अब तो पग-पग आशिक़ी बेआबरू हुई है.!!Image
Ishq mein kaisi ab ye hawa chali hai.!
Muhabbat se pahle aajmaish huyi hai.!!
Yaqeen nahin phir bhi yaqeen karte hain.!
Pyaar mein bhi diwane vyapar karte hain.!!
Ulfat huyi man se mailee aashiqon kee.!
Shadi se pahale Jismi pyaar karte hain.!!
Ek zamana aisa bhi guzara aashiqi mein.!
Mehbbob ki khatir jaan qurban huyi hai.!!
“Sagar”nakar aaj wafa ki ummeed kisise.!
Abto pag-pag aashiqi beaabroo huyi hai.!!

2.
जहाँ तू है वहीं तो ज़िंदगी है.!!

Posted by dilkashshayari
जहाँ तू है वहीं तो ज़िंदगी है.!
तेरे बिन हर शय में बे-दिली है.!!
बहुत चाहा है तुझे जान-ए-जहाँ.!
तेरी खुश्बू से मेरी सांस चली है.!!
कभी तो हंसकर बातकर लिया करो.!
कल रात भी तेरी गली ही कटी है.!!
इतनी बेरूख़ी ना दिखाओ बीमारको.!
तेरी करीबी से ही खुशी मिली है.!!
ना चाहा पर गैर को कभी ना चाहना.!
तेरी बेवफ़ाई मेरी ज़िंदगी की मौत है.!!

Jahaan tu hai wahin to zindgee hai.!
Tere bin har shai mein be-dili hai.!!
Bahut chaha hai tujhe jaan-e-jahan.!
Teri khushbu se meri sans chali hai.!!
Kabhi to hans kar bat kar liya karo.!
Kal raat bhi teri galee hi kati hai.!!
Itani berukhi na dikhao is bimar ko.!
Teri kareebi se hee khushi mili hai.!!
Na chaha par gair ko kabhi na chahna.!
Teri bewafai meri zindgee ki mout hai.!!

3.

!!…..बेवफा सनम…..!!
MAY 7
Posted by dilkashshayari
गैरों में ना दम था कि कुछ बिगाड़ पाते.!!
वो तो तुम थे हर वक़्त साजिश करते रहे.!!

अपनी आबाद मुहब्बत पे हमें बड़ा यक़ीन था.!
अंजान थे बिन उनके आशियाँ ना बना पायेंगे.!!

इस ज़िंदगी की कमी हो चाह कर ना भुला सकूँ.!
जो हवा हमें दर्द दे गयी तुम्हारे गम ले उड़े.!!

अपने-अपने मुकदर की बात है मुहब्बत पा लेना.!
किसी-किसी का नसीब है मनचाहा साथी पा लेना.!!

चलो माना वक़्त हमारे साथ नहीं है मगर.!
उम्मीद का दामन थमा है कभी तो सुबहा होगी.!!Image

Gairon mein na dum tha ki kuch bigad pate.!!
Wo to tum the jo har waqt sajish karte rahe.!!

Apni aabad muhabbat pe hume baa yaqeen tha.!
Anjaan the bin unke aashiyan na bana payeinge.!!

Is zindgee ki kami ho chaah kar na bhula sakun.!
Jo hawa hume dard de gayi tumhare gum le ude.!!

Apne-apne muqdar ki bat hai muhabbat pa lena.!
Kisi-kisi ka naseeb hai manchaha sathi paa lena.!!

Chalo maana waqt humare sath nahin hai magar.!
Umeed ka daman thama hai kabhi to subaha hogi.!!

4.

!!…..वो पहली रात…..!!
MAY 5
Posted by dilkashshayari
भूल सकता हूँ भला कैसे वो पहली रात.!
साँसें जब संगमरमर जिस्मसे टकराई थी.!!

तेरे लबों को छुआ था मेरे लबों ने.!
मेरे सिने में मुँह छुपा तू शरमाई थी.!!

कैसे बाहों ने दिया था बाहों को सहारा.!
और ज़िंदगी ने अपनी मंज़िल पाई थी.!!

फूलों से सजी सेज थी जैसे कोई चमन.!
भंवरे ने फिर फूल एक काली बनाई थी.!!

तेरे सवालों से भरी बहकी-बहकी आँखें.!
मेरे घूँघट उठाने पर कैसे तू घबराई थी.!!

 

Bhool sakta hun bhala kaise wo pahalee raat.!
Sansein jab sangemarmar jism se takarai thi.!!

Tere labon ko chuaa tha mere labon ne.!
Mere sine mein munh chupa tu sharmai thi.!!

Kaise bahon ne diya tha bahon ko sahara.!
Aur zindgee ne apani manzil paai thi.!!

Phoolon se saji sej thi jaise koyi chaman.!
Bhanware ne phir phool ek kali banaai thi.!!

Tere sawalon se bhari wo bahki-bahki aankhein.!
Mere ghunghat uthane par kaise tu ghabarai thi.!!

5.

!!…..तेरी वो पहली झलक…..!!

याद है अब तक तेरी वो पहली झलक.!
कोठे पे खड़े हो तेरा बालों को सुखाना.!!
वो पानी से भीगा तेरा तराशा बदन.!
मुझसे नज़र्रें मिला हया से शरमाना.!!
याद है अब तक,,,,,
कैसे दुपट्टे से तूने सीना ढका था.!
शौख जवानी को जैसे क़ैद किया था.!!
याद है अब तक,,,,,
तेरे होंठों को चूमती काली लटें.!
जैसे भंवरे को देती कली दावतें.!!
याद है अब तक,,,,,
मुझसे नज़रें मिला तेरा नज़र चुराना.!
चोर नज़रों से देख मंद-मंद मुस्कुराना.!!
याद है अब तक,,,,,
पहली नज़र में तेरा दिल में उतर जाना.!
तेरी गली में अपना सब कुछ लूटा आना.!!
याद है अब तक,,,,,
भूल सकता नहीं उमर भर वो हादसा.!
क़यामत से पड़ा था जब खूब वास्ता.!!
याद है अब तक,,,,,

Yaad hai ab tak teri wo pahalee jhalak.!
Kothe pe khade ho balon ko sukhaana.!!
Wo paani se bhiga tera taraasha badan.!
Mujhse nazarien mila haya se sharmana.!!
Yaad hai ab tak,,,,,
Kaise dupatte se tune seena dhaka tha.!
Shoukh jawaani ko jaise kaid kiya tha.!!
Yaad hai ab tak,,,,,
Tere honthon ko choomati kaali latein.!
Jaise bhanware ko deti kalee dawatein.!!
Yaad hai ab tak,,,,,
Mujhse nazarein mila tera nazar churaana.!
Chor nazaron se dekh mnd-mnd muskurana.!!
Yaad hai ab tak,,,,,
Pahali nazar mein tera dil mein uttar jana.!
Teri galee mein apna sab kuch loota aana.!!
Yaad hai ab tak,,,,,
Bhool sakta nahin umar bhar wo haadsa.!
Qayamat se pada tha jab kya khub wasta.!!
Yaad hai ab tak,,,,,

6

!!.खुदा की साजिश.!!
MAY 2
Posted by dilkashshayari
खुदा की भी शायद कोई साजिश है.!
इतफ़ाक़ नहीं जो हर मोड़ मिलते हैं.!!
मिलकर बिछड़ने का गम सताता है.!
दिल को क्यूँ अपनी सी लागी है.!!
घर से निकलू किसी भी काम से.!
राहा यार-ए-गली हो मिल जाती है.!!
वो भी हंसता है अपनी बेताबी पर.!
उस को ये शरारत बहुत भाती है.!!
अबके मिल जाए तो गले लगा लेना.!
“सागर”देखें किस्मत कहाँ ले जाती है.!!
Image

Khuda kee bhi shayad koyi sajish hai.!
Itafaq nahin jo roj har mod milte hain.!!

Mil kar bichadne ka gum stata hai.!
Dil ko kyun apni see laagi hai.!!

Ghar se nikalun kisi bhi kaam se.!
Raha yaar-e-galee homil jati hai.!

Wo bhi hansta hai apni betabi par.!
Us ko ye shararat bahut bhati hai.!!

Abke mil jaaye to gale laga lena.!
“Sagar”dekhein kismat kahan le jati hai.!!

Rate this:
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
!!…..उनकी रेशमी झुलफें…..!!
MAY 1
Posted by dilkashshayari
राहा खड़े हैं हाथों में गुलाब लिए.!
उनकी रेशमी झुलफें सजाने के लिए.!!
कभी तो निकलोगे तन्हा घर से तुम.!
पड़े हैं राहा दिल लुटाने के लिए.!!
कोई तो तेरी भी कमी होगी क़ातिल.!
ना इतरा यूँ दिल लगाने के लिए.!!
किसी खातिर जीना सब्ब है खुदा का.!
बैचैन हैं तेरे आँसू चुराने के लिए.!!
मुहब्बत सिवा कुछ पास नहीं है“सागर”.!
छोड़े हैं सारे काम उसे पाने के लिए.!!
22

Raha khade hain hathon mein Gulab liye.!
Un kee reshami jhulfein sajaane ke liye.!!
Kabhi to nikaloge tanha ghar se tum.!
Pade hain raha dil lutaane ke liye.!!
Koyi to teri bhi kami hogi qaatil.!
Na itara yun dil lagaane ke liye.!!
Kisi khaatir jeena sabb hai Khuda ka.!
Baichain hain tere aansun churane ke liye.!!
Muhabbat ke siwa kuch paas nahin“Sagar”.!
Chode hain saare kaam use paane ke liye.!!
Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
!!..पीने की वजह..!!
APR 30
Posted by dilkashshayari
तुझे भुलाने की चाह में पीते हैं.!
ज़िंदगी अब यूँ ही बसर करते हैं.!!
ज़िंदगी साथ जीने की ख्वाहिश थी.!
तेरे बगैर तूँ ही सोच कैसे जीते हैं.!!
बोतल शराब में भी तू नज़र आती है.!
कैसे समझाऊं दुनियाँ को क्यूँ पीते हैं.!!
कभी तेरी आँखों से पी जिया करते थे.!
अब 22मैखाने जा मरने की दुआ करते हैं.!!
हयात-ए-सफ़र जैसे-तैसे कट जाएगा.!
लोग ना जाने पीते हैं तभी तो जीते हैं.!!
Tujhe bhulane ki chah mein peete hain.!
Zindgee ab yun hee basar karte hain.!!
Zindgee sath Jeene keei khwaahish thiee.!
Tere bagair tun hee soch kaise jeete hain.!!
Botal sharab kee mein bhi tu nazar aati hai.!
Kaise sanjhaun duniyan ko kyun peete hain.!!
Kabhee teri aankhon se pee jiya karte the.!
Ab maikhane ja marne kee dua karte hain.!!
Hayaat-e-Safar jaise-taise kat hee jayega.!
Log na jaane peete hain tabhi to jeete hain.!!

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
!!…..तेरी शायरी हूँ मैं…..!!
APR 29
Posted by dilkashshayari
उनके तस्स्वुर में इस क़द्दर खो जाती हूँ.!
दिल कहता अपने रुब्ब से मिल आती हूँ.!!

फ़ुर्सत कहाँ अब किसी और इबादत की.!
हर वक़्त उनकी तस्वीर जो निहारती हूँ.!!

ये ज़िंदगी तो उनके नाम करदी है.!
खुश्बू से उनकी साँसें ले लेती हूँ.!!

जल्दी है मुझको उनके घर जाने की.!
दुल्हन का जोड़ा पहन रोज़ सजती हूँ.!!

कब होगा इंतज़ार ख़तम इस दिल का.!
तेरे जवाब को हर पल तरसती हूँ.!!

शायर है तू “सागर” तेरी शायरी मैं.!
तेरे गीतों तेरी साँसों में बस्ती हूँ.!!

Unke tassvur mein is qaddar kho jati hun.!
Dil kehata apne Rubb se mil aati hun.!!

Fursat kahan ab kisi aur Ibadat kee.!
Har waqt unki tasweer jo niharti hun.!!

Ye zindgi to unke naam kardi hai.!
Khushboo se unki sans le leti hun.!!

Jaldi hai mujhko unke ghar jane kee.!
Dulhan ka joda pahan roz sajti hun.!!

Kab hoga intzaar khatam is dil ka.!
Tere jawab ko har pal tarsi hun.!!

Shayar hai tu “Sagar” teri shayari main.!
Tere geeton teri sanson mein basti hun.!!
Rate this:
2 Votes
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
बेपरवाहा हुस्न.!!
APR 27
Posted by dilkashshayari
यूँ बेनक़ाब हो गर चाँदनी बिखराओगे.!
हुस्न-ओ-जमाल से घायल कर जाओगे.!!
मौत भी राहा बदल बक्श देगी ज़िंदगी को.!
ज़िंदगी को खुद से बहुत प्यार करा जाओगे.!!
ख्वाहिश हर दिल होगी महताब को पाने की.!
राहा में कतारें आशिक़ों की लगा जाओगे.!!
उठता परदा हसीनो को और हसीन बना देता.!
दिखा जलवा क़यामत का एहसास करा जाओगे.!!
हुस्न हया में रखती तो बहुत अछा था.!
खुली हवा हो हर रूह में उत्तर जाओगे.!!
हुस्न की मल्लिका हो या “सागर”का कलाम.!
भरी महफ़िल में ग़ज़ल बना सुनाई जाओगे.!!Image
Yun benaqab ho gar Chaandani bikharaoge.!
Husn-o-Jamal se sab ko Ghayal kar jaoge.!!
Mout bhi raha badal baksh degi zindgi ko.!
Zindgi ko khud se bahut pyaar kara jaoge.!!
Khwahish har dil hogi Mehtaab ko paane kee.!
Raha mein katarein Aashiqon kee laga jaoge.!!
Uthta parda hasino ko aur hasin bana deta.!
Dikha jalwa Qayaamat ka ehasas kara jaoge.!!
Husn Haya mein rakhati to bahut acha tha.!
Khuli hawa ho har Rooh mein uttar jaoge.!!
Husn ki Mallika ho ya “Sagar” ka Kalaam.!
Bhari Mehfil mein Gajal bana sunai jaoge.!!

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
तुझ से बिछड़ जिंदा लाश बन गया हूँ.!!
APR 26
Posted by dilkashshayari
तेरे ख़यालों में खोकर ग़ज़ल लिख रहा हूँ.!
लोग कहते हैं मैं खुद ग़ज़ल हो गया हूँ.!!
भूलने की चाह में मैकदा हमदम ब नाया.!
भुला पाया ना बेशक खुद को मिटा गया हूँ.!!
क्यूँ दुल्हन सी सज खवाबों में आती है.!
अपने सेहरे में फूल ताजे सज़ा गया हूँ.!!
इस ज़िंदगी की चाहत तेरे वजूद से थी.!
गैर बाहों में देख सब कुछ लूटा गया हूँ.!!
ये साँसें तो बस तेरी अमानत ही थी.!
तुझ से बिछड़ जिंदा लाश बन गया हूँ.!!
खून हुआ मेरे दिलका रंज नहीं मुझको.!
तेरे हाथ है देख हेरान हो गया हूँ.!!
अपनी पलकों में सजाया तेरी हर अदा को.!
आज बेवफ़ाई से तेरी परेशन हो गया हूँ.!!17_Looking at sunset_unknown
Tere khayalon mein khokar gajal likh raha hun.!
Log kehate hain main khud gajal ho gaya hun.!!

Bhulane ki chah mein maikda humdum banaya.!
Bhula paya na beshak khud ko mita gaya hun.!!

Kyun Dulhan si saj khawabon mein aati hai.!
Apne Sehare mein phool taje saja gaya hun.!!

Is zindgee ki chahat tere wajood se hee thee.!
Gair bahon mein dekh sab kuch luta gaya hun.!!

Ye sansein to bus teri amaanat hee thee.!
Tujh se bichad jinda laash ban gaya hun.!!

Khoon hua mere dil ka ranj nahin mujh ko.!
Tere hath hai khanjar dekh heran ho gaya hun.!!

Apni palkon mein sajaaya teri har adaa ko.!
Aaj bewafai se teri pareshan ho gaya hun.!!
Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
गुज़रा वक़्त..!!
APR 22
Posted by dilkashshayari
मुहब्बत के गुज़रे लम्हें याद कर उदास हो जाता हूँ.!
के जैसे ज़िंदगी को मौत के और करीब छोड़ आता हूँ.!!
बहुत चाहा की भुला दूं उस दिल-ए-अज़ीज महबूब को.!
मिटाना चाहा कागज से नाम उसका दिल पर लिख आता हूँ.!!
किससे कहूँ कैसे कहूँ और क्या कहूँ कुछ पता नहीं.!
बेदर्द ज़माने में खुद को अक्सर तन्हा ही पाता हूँ.!!
क्या खूब थे उलफत में संग-संग बिताए वो हसीन दिन.!
सोचता हूँ खुदा से वो वक़्त दुआ में फिर माँग आता हूँ.!!
एक दिन यक़ीनन वो भी याद कर तन्हा आँसू बहाएगा.!
“सागर” उमीद सहारे दुनियाँ से रुखसत हुए जाता हूँ.!!
23

Muhabbat ke guzare lamhein yaad kar Udas ho jata hun.!
Ke jaise zindgee ko mout ke aur kareeb chod aata hun.!!
Bahut chaaha kee bhula dun us dil-e-ajeej mehboob ko.!
Mitana chaha kagaj se naam uska dil par likh aata hun.!!
Kisse kahun kaise kahun aur kya kahun kuch pata nahin.!
Bedard zamaane mein khud ko aksar tanha hee paata hun.!!
Kya khoob the ulfat mein sang-sang bitaaye wo hasin din.!
Sochta hun Khuda se wo waqt Dua mein fir mang aata hun.!!
Ek din yaqeenan wo bhi yaad kar tanha aansu bahaayega.!
“Sagar” Umeed sahare duniyan se rukhsat huye jata hun.!!
Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
!!……एक शाम ज़िंदगी की……!!
APR 20
Posted by dilkashshayari
एक और शाम ज़िंदगी की ढल गयी.!
तेरी यादों में जाने कैसे गुज़र गयी.!!

कैसी है कहाँ है कुछ खबर नहीं.!
मुहब्बत इश्क़ कर है क्यूँ मुकर गयी.!!

ये दिल तेरी धड़कानों से ही धड़का है.!
दिल ले जिस्म जिंदा क्यूँ छोड़ गयी.!!

अपनी उलफत से ऱश्क़ करता था जमाना.!
गैर हो मुहब्बत को रुसवा कर गयी.!!

“सागर” मोहताज हूँ हवा में सांस लेने को.!
अपनी खुश्बू हवा में क्यूँ बिखरा गयी.!!

Image

Ek aur shaam zindgee kee dhal gayi.!
Teri yadon mein jane kaise guzar gayi.!!

Kaisi hai kahan hai kuch khabar nahin.!
Muhbbat Ishq kar hai kyun mukar gayi.!!

Ye dil teri dhadkanon se hi dhadka hai.!
Dil le Jism jinda kyun chod gayi.!!

Apni ulfat se Rashq karta tha jamaana.!
Gair ho muhabbat ko ruswa kar gayi.!!

“Sagar” Mohtaj hun hawa mein sans lene ko.!
Apni khushboo hawa mein kyun bhikhara gayi.!!

Rate this:
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
//,,,वक़्त,,,//
APR 17
Posted by dilkashshayari
देखते देखते ही वक़्त गुज़र जाता है.!
दिन बनते महीने साल गुज़र जाता है.!!
वक़्त का हर लम्हां है नज़ाकत भरा.!
समझो जब तल्क वक़्त गुज़र जाता है.!!
कब क्या हो क्या ना हो कोई ना जाने.!
इस से पहले ही इंसान गुज़र जाता है.!!
बचपन आता जवानी जाती फिर बुढ़ापा.!
यूँ ही ज़िंदगी का सफ़र गुज़र जाता है.!!
इंसान है मोहताज वक़्त का वक़्त नहीं.!
हर बंधन तोड़ वक़्त गुज़र जाता है.!!
Image

Dekhte dekhte hi waqt guzar jata hai.!
Din bante mahine Saal guzar jata hai.!!
Waqt ka har lamha hai najakt bhara.!
Samajho jab talk waqt guzar jata hai.!!
Kab kya ho ya kya na ho koyi na jane.!
Is se pahale hi Insaan guzar jata hai.!!
Bachpan aata Jawani jati phir Budapa.!
Yun hi zindgi ka Safar guzar jata hai.!!
Insaan hai Mohtaj Waqt ka Waqt nahin.!
Har bandhan tod Waqt guzar jaata hai.!!
Rate this:
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
1 Comment
!!…..छुप-छुप कर ना देखो…..!!
APR 16
Posted by dilkashshayari
यूँ झरोखों से छुप-छुप ना देखा करो.!
किसी शाम तो रु-बरु हो मिला करो.!!

छुप-छुप चेहरा दिखा क्यूँ सितम करती हो.!
अपने बीमार को कुछ दवा भी दिया करो.!!

यूँ छिपने-छिपाने से मुहब्बत और भड़कती है.!
सुलगते शोलों को और हवा ना दिया करो.!!

छिप-छिप चाहोगे तो शक़ करेगा ज़माना.!
दुनियाँ की निगाहों में रुसवा ना हुआ करो.!!

छिपने-छिपाने का वफ़ा में दस्तूर नहीं.!
करदो हाँ यूँ इश्क़ को ना तरसया करो.!!Image

Yun jharokhon se chup-chup na dekha karo.!
Kisi shaam to ru-baru ho mila karo.!!

Chup-chup chehara dikha kyun sitam karti ho.!
Apne bimaar ko kuch Dawa bhi diya karo.!!

Yun chipne-chipane se muhabbat aur bhadkati hai.!
Sulagte sholon ko aur Hawa na diya karo.!!

Chip-chip chaahoge to shaq karega zamaana.!
Duniyan ki nigahon mein ruswa na hua karo.!!

Chipne-chipane ka wafa mein dastur nahin.!
Kardo haan yun Ishq ko na tarsaaya karo.!!

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
तेरी साजिश.!!
APR 13
Posted by dilkashshayari
Lovers GIF.gif GIFज़िंदगी के हर पल में तूने साज़िश की.!
वफ़ा की ना पर वफ़ा की दिखावट की.!!
करता रहा ज़द-ओ-जह्द तेरी खुशी खातिर.!
तूने रोज़ चेहरे पर नयी सजावट की.!!
अश्क़ तेरे पलकों में लेने की कोशिश की.!
तूने फिर भी ज़ज़्बातों में मिलावट की.!!
बंदा सीधा-सदा ना समझू दुनियाँ को.!
छोड़ बेसहारा ये कैसी तूने शरारत की.!!
वादा किया मुझसे और मैं ही तन्हा रहा.!
सज़ा सेज गैर अपने अरमानो की दावत की.!!

Zindgi ke har pal mein tune Sazish ki.!
Wafa ki naa par wafa ki Dikhaawat ki.!!
Karta raha jad-o-jahd teri khushi khatir.!
Tune roz Chehare par nayi Sajaawat ki.!!
Ashq tere palkon mein lene ki koshish ki.!
Tune phir bhi zajbaton mein Milaawat ki.!!
Banda sidha-sada na samjhu Duniyan ko.!
Chod besahara ye kaisi tune Shararat ki.!!
Wada kiya mujhse aur main hi tanha raha.!
Saja Sej gair se apne armano ki Daawat ki.!!
Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
!!…..तेरा सहारा…..!!
APR 12
Posted by dilkashshayari
कदम-कदम पर ज़िंदगी में तेरा इंतज़ार किया.!
ना मालूम था रूठने वाले मिलते नहीं दोबारा.!!
एक तेरी चाहत के सिवा ना है कोई काम मेरा.!
मारा-मारा फिरता हूँ ना छोड़ा कोई गली-चौबारा.!!
तेरे इश्क़ में जीतने की लत कुछ ऐसी हो गयी.!
दिल कहता है बार-बार अब हारा जाने कब हारा.!!
टूटती साँसों को तुझे देखने की ही है ख्वाहिश.!
रूह निकलेगी जिस्म से हो जाएगा जो तेरा इशारा.!!
“सागर”की मौजों को भी मिल जाता कोई किनारा.!
गर होता हवाओं में किसी अपने का कोई सहारा.!!
Image

Kadam-kadam par Zindgi mein tera Intzaar kiya.!
Na maloom tha Ruthane wale Milte nahin Dobara.!!
Ek teri Chaahat ke Siwa na hai koyi kaam mera.!
Mara-mara Firta hun na choda koyi Gali-Chobara.!!
Tere Ishq mein Jitane ki lat kuch aisi ho gayi.!
Dil ye kehta hai bar-bar ab hara jane kab hara.!!
Tutati sanson ko tujhe dekhane ki hai Khwahish.!
Rooh nikalegi Jism se ho jayega jo tera Ishara.!!
“Sagar” ki Moujon ko bhi mil jaata Koyi Kinara.!
Gar hota Hawaaon mein Kisi apne ka koyi sahara.!!
Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
तेरे बिन.!!
APR 11
Posted by dilkashshayari
तेरी बेवफ़ाई से यूँ उकता गया हूँ.!
अपनी ज़िंदगी से ही तंग आ गया हूँ.!!

कुछ कर्ज़ बाकी है तभी जिंदा हूँ.!
वरना ज़िंदगी से अज़ीज आ गया हूँ.!!

ज़ॅमी-चाँद-सितारे क्या करूँ तेरे बिन.!
दिल कहता है मंज़िल से दूर आ गया हूँ.!!

शिद्दत से इबादत की थी तुझ बुत की.!
खबर ना थी पत्थर से दिल लगा गया हूँ.!!

गैर बाहों में खुश है तो सलामत रहे.!
टूटती साँसों में दुआ कर रहा हूँ.!!

17_Looking at sunset_unknown

Teri bewafai se yun ukta gaya hun.!
Apni zindgi se hi tang aa gaya hun.!!

Kuch karj baaki hai tabhi jinda hun.!
Warna zindgi se ajeej aa gaya hun.!!

Zami-Chaand-Sitare kya karun tere bin.!
Dil kehta hai manjil se door aa gaya hun.!!

Shiddat se Ibaadat kee thi tujh but kee.!
Khabar na thi paththar se dil laga gaya hun.!!

Gair bahon mein khush hai to slamat rahe.!
Tootati sanson mein Dua kar raha hun.!!

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
!!…..तेरा शहर…..!!
APR 1
Posted by dilkashshayari
तेरे शहर में आया हूँ,
तेरा नाम ना लूँगा.!
होगी मेरे सामने पर,
तुझे आवाज़ ना दूँगा.!!

तुझे पूजने की जिद्द,
अब भी है मुझ में.!
तेरे नाम से जिया हूँ,
तेरे नाम से ही मरूँगा.!!

इन हवाओं में भी है,
उन हवाओं में भी थी.!
सांस जब तल्क चलेगी,
तुझे खुद में समा लूँगा.!!

तेरी सखियों ने मुझे अक्सर,
सवालों भरी निगाहा से देखा.!
तेरा हाल जो मुझ से पूछा,
बता उन्हें क्या जवाब दूँगा.!!

करी मुझसे ना वफ़ा तूने,
पर बेवफा तू ना थी.!
जाऊँगा जब जहाँ से,
अपने दिल को क्या कहूँगा.!!

दिल-ए-ज़िंदगी की “सागर”,
एक ही है ख्वाहिश.!
वो हो नज़र के सामने,
जहान से रुखसत जब करूँगा.!!

Image

Tere shahar mein aaya hun,
Tera naam na loonga.!
Hogi mere samane par,
Tujhe aawaaz na doonga.!!

Tujhe poojane ki jidd,
Ab bhi hai mujh mein.!
Tere naam se jiya hun,
Tere naam se hi maroonga.!!

In hawaaon mein bhi hai,
Un hawaaon mein bhi thi.!
Sans jab talk chalegi,
Tujhe khud mein sama loonga.!!

Teri sakhiyon ne mujhe aksar,
Sawalon bhari nigaha se dekha.!
Tera haal jo mujh se poocha,
Bata unhein kya jawab doonga.!!

Kari mujhse na wafa tune,
Par bewafa tu na thee.!
Jaoonga jab jahaan se,
Apne Dil ko kya kahoonga.!!

Dil-e-Zindgi ki”Sagar”,
Ek hi hai Khwahish.!
Wo ho nazar ke samane,
Jahaan se Rukhsat jab karoonga.!!

Rate this:
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
सच की राहा.!!
MAR 30
Posted by dilkashshayari
सच कहते-कहते इस मोड़ पर आ गया हूँ.!
दुनिया के सामने झूठ का पुतला बन गया हूँ.!!

क्या करूँ सच बोलने के सिवा आदत नहीं.!
ये और बात है हर बार चोट खा गया हूँ.!!

माँ ने कहा था बेटा झूठ कभी ना बोलना.!
माँ की मानी हर वक़्त बेशक सज़ा पा गया हूँ.!!

सच की राहा चल दिल को सकूँ बहुत मिलता है.!
पगला-पगला सुन खुद को पत्थर-सा हो गया हूँ.!!

जो भी चला सच पर काँटों का ताज उसने पाया.!
काँटों की राहा गुज़र यारो फूलों को पा गया हूँ.!!

दिल टूटा जब भी”सागर”सच को सलाम करने पर.!
ज़ज्बात बिखरे कागज पर और ग़ज़ल लिख गया हूँ.!!

Sach kehte-kehte is mod par aa gaya huN.!
Duniya ke samane Jhuth ka Putala ban gaya huN.!!

Kya karun Sach bolane ke Siwa aadat nahiN.!
Ye aur bat hai har baar Chot kha gaya huN.!!

Maan ne kaha tha Beta Jhooth kabhee na bolna.!
Maan ki mani har waqt Beshak Saja paa gaya huN.!!

Sach ki Raha chal Dil ko SakuN bahut milta hai.!
Pagla-pagla sun Khud ko Paththar-sa ho gaya huN.!!

Jo bhi chala Sach par KantoN ka Taj usne paya.!
KaantoN se Guzar Yaaro PhooloN ko pa gaya huN.!!

Dil Toota jab bhi”Sagar”Sach ko Salaam karne par.!
Jajbat Bikhare Kagaj par aur Gazal likh gaya huN.!!

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
1 Comment
मौत महबूबा है.!!
MAR 24
Posted by dilkashshayari
मौत तो खूबसूरत महबूबा है.!
एक ना एक दिन गले लगाना होगा.!!

दो चार दिन की चाँदनी है.!
फिर वापिस खुदा पास जाना होगा.!!

ज़िंदा रहते हज़ार गज कम पड़े.!
कफ़न ओढ़ दो गज में जाना होगा.!!

धन-दौलत मोह-माया सब छोड़.!
खाली हाथ आया खाली जाना होगा.!!

बँध मुठ्ठी में तक़दीर लाया.!
खुली मुठ्ठी छोड़ सब जाना होगा.!!

Image

Mout khubsurat Mehbooba hai.!
Ek na ek Din gale lagana hoga.!!

Do chaar din kee Chaandni hai.!
Phir wapis Khuda pas jana hoga.!!

Zinda rahte Hazar gaj kam pade.!
Kafan Odh do gaj mein jana hoga.!!

Dhan-Doulat Moh-Maya sab chod.!
Khaali hath aaya khaali jana hoga.!!

Bandh Muththi mein Taqdeer laya.!
Khuli Muththi chod sab jana hoga.!!

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
तेरी यादें
MAR 23
Posted by dilkashshayari
दुनियाँ से सभी जाते हैं,
मैं भी चला जाऊँगा.!
तेरी यादें रूह में लिए,
जहान से चला जाऊँगा.!!

कुछ तेरी कमी थी,
कुछ मेरी कमी है.!
रुसवाई मुहब्बत की लिए,
खामोशी से चला जाऊँगा.!!

तुझ संग मुहब्बत मेरी,
महज इतफ़ाक़ ना थी.!
होती ही वफ़ा कैसी,
तुझको दिखा जाऊँगा.!!

वक़्त मेहर्बण होहमेंशा,
ये मुमक़ीन नहीं.!
गुज़रे लम्हों को लिए,
आँखों में चला जाऊँगा.!!

ओ गैर मेरी मुहब्बत पा,
तूँ यूँ ना इतरा.!
मालिक ने जो थी मुझे,
दुआएं तुझे दे जाऊँगा.!!

बस और नहीं “सागर”,
थाम अपनी परवाज़ को.!
धीरे-धीरे खुद ही,
किनारे लग जाऊँगा.!!Image

DuniyaN se sabhi jaate haiN,
Main bhi chala jaaoonga.!
Teri yaadeiN rooh mein liye,
JahaaN se chala jaaoonga.!!

Kuch teri kami thee,
Kuch meri kami hai.!
Ruswai muhabbat ki liye,
Khamoshi se chala jaaoonga.!!

Tujh sang muhabbat meri,
Mehaj Itafaaq na thee.!
Hoti hi wafa kaisi,
Tujhko dikha jaaoonga.!!

Waqt meharbaN ho hameinsha,
Ye mumqeen nahiN.!
Guzare lamhoN ko liye,
AankhoN mein chala jaaoonga.!!

O Gair meri muhabbat pa,
TuN yun na Itaraa.!
Maalik ne jo thi mujhe,
DuaeiN tujhe de jaaoonga.!!

Bas aur nahiN “Sagar”,
Thaam apni Parwaaz ko.!
Dheere-dheere khudhi,
Kinaare lag jaaoonga.!!

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
आशिक़ी का फसाना.!!
MAR 19
Posted by dilkashshayari
फ़िज़ाओं से पूछो मेरी आशिक़ी का फसाना.!
कन-कन सुनायेंगी मेरी इश्क़ का तराना.!!

तेरी सलामती की दुआ ज़रे-ज़रे से निकली.!
हर शै में बिखरा मेरे इश्क़ का नज़राना.!!

बहुत नहीं एक तूँ ही है सनम दिल का.!
कोई और देख ले तो वसूल लेना हर्ज़ाना.!!

कहकशां चूमती हैं तेरे गर कदम तो.!
है मेरे इश्क़ की वफ़ा छोड़ यूँ इतराना.!!
Image
छोड़ दी मैने सारी दुनियाँ तेरे वास्ते.!
तेरे लिए है जीना तेरी खातिर मर जाना.!!

FizaaoN se pucho meri Aashiqi ka fasana.!
KaN-KaN sunayeingi meri Ishq ka tarana.!!

Teri salamati kee Dua zare-zare se nikali.!
Har shai mein bikhara hai mera nzarana.!!

Bahut nahiN ek tuN hi hai Sanam dil ka.!
Koyi aur dekh le to wasool lena harzana.!!

KehakshaN chumati hain tere gar kadamto.!
Hai mere Ishq kee wafa chod yuN itarana.!!

Chod di maine sari duniyaN tere waaste.!
Tere liye hai jeena teri khatir marjana.!!

Rate this:
2 Votes
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
//…..सजना साथ निभाना…..//
MAR 18
Posted by dilkashshayari
तस्वीर हमारी ना रुसवा करना.!
पलकों में हमेशा सज़ा रखना.!!
जब तल्क़ दुनियाँ में रहोगे.!
पास हमें अपने हमेशा रखना.!!

याद जिसे बाद ज़माना करे.!
इतनी मुहब्बत हमसे करना.!!
फ्लसफा हमारा मशहूर हो जाए.!
जन्मो-जन्म का साथ निभाना.!!

यूँ तो सभी प्यार करते हैं.!
कस्में वादों की बातें करते.!!
क़यामत तक रहे जो सलामत.!
ऐसी वफ़ा हमसे तुम करना.!!Image

Tasweer humaari na ruswaa karna.!
PalkoN mein hamesha saja rakhna.!!
Jab talq duniyaN mein rahoge.!
Pas humeiN apne humesha rakhna.!!

Yaad jise baad zamaana kare.!
Itani muhabbat hum se karna.!!
Flsfa humara mashahur ho jaye.!
Janmo-janm ka saath anibhana.!!

Yun to sabhee pyaar karte haiN.!
KasmeiN wadoN ki bateiN karte.!!
Qayamat tak rahe jo Salaamat.!
Aisee Wafa hum se tum karna.!!

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
वफ़ा का वो ज़माना गया.!!
MAR 17
Posted by dilkashshayari
इश्क़ वफ़ा प्यार मुहब्बत का ज़माना गया.!
होते थे किस्सा वफ़ा का वो फ्लसफा गया.!!

अब बिस्तर पे होती ज़ोर-आज़माइश वफ़ा की.!
इश्क़ में ना आज़माने का वो ज़माना गया.!!

एक चेहरे के सिवा और की जगहा ना थी.!
मन-मंदिर में मूरत सजाने का ज़माना गया.!!

एक-दूजे के लिए जीने वाले अब आशिक़ कहाँ.!
प्यार में हद से गुज़रने का ज़माना गया.!!

एक दिलरुबा से किया था इश्क़ दिल ने “रवि”.!
ना खबर थी अब पाक वफ़ा का ज़माना गया.!!Image

Ishq wafa pyaar muhabbat ka zamana gaya.!
Jo hote the kissa wafa ka wo falsfaN gaya.!!

Ab to Bistar pe hoti jor-aajmaaish wafa kee.!
Ishq meiN na aajmaane ka wo zamana gaya.!!

Ek chehare ke siwa aur kee jagaha na thee.!
Mn-Mandir mein Murat sajane ka zamana gaya.!!

Ek-Duje ke liye jeene waale ab aashiq kahaN.!
Pyaar meiN had se guzrne ka zamana gaya.!!

Ek dilruba se kiya tha ishaq dil ne “Ravi”.!
Na khabar thi Ab Pak wafa ka zamana gaya.!!

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
परदा जो उठाओगे.!!
MAR 14
Posted by dilkashshayari
रुख़ से परदा जो उठाओगे.!
खुदा कसम बेमौत मार जाओगे.!!

उफ़ ये कम्बख़त चाँद-सा चेहरा.!
दिखा आशिक़ों को तडपा जाओगे.!!

कई हैं तेरे चाहने वाले माना.!
हमें भी अपने पीछे ही पाओगे.!!

लब से चू अपने लबों को.!
कसक दिल की बड़ा जाओगे.!!

जी भर के ना देखना हमें.!
वरना होश हमारे ले जाओगे.!!
999077_479451945500874_1194841764_n
Rukh se parda jo uthaaoge.!
Khuda kasam bemout maar jaaoge.!!

Uf ye kambakhat Chaand-sa chehara.!
Dikha AashiqoN ko Tadpa jaaoge.!!

Kai hain tere chahne wale mana.!
HameiN bhi apne peeche hi paaoge.!!

Lab se choo apne laboN ko.!
Kasak is dil ki aur bada jaaoge.!!

Jee bhar ke na dekhna hameiN.!
Warna hosh hamare le jaaoge.!!

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
आशिक़ाना दिल.!!
MAR 14
Posted by dilkashshayari
नज़रों से गिराया है,
दिल से ना भुलाना.!
गैर का तस्व्वुर कर,
मेरा दिल ना दुखाना.!!

तेरी साँसों में था,
मेरी रूह का ठिकाना.!
भुला ना यूँ मुझे,
याद कर गुज़ारा ज़माना.!!

कई तेरे चाहने वाले,
सुना है ये फसाना.!
एक आवाज़ दे तो,
हो ज़माना सारा दीवाना.!!

सीखे कोई तुझ से,
दिल ले मुकर जाना.!
बात-बात पे हसना,
दिल तेरा है आशिक़ाना.!!

आ तुझे दिखा दूं,
पाक वफ़ा का तराना.!
तेरी चाहत तेरी कर,
दूं प्यार का नज़रना.!!

Image
NazaroN se giraya hai,
Dil se na bhulana.!
Gair ka tasvvur kar,
Mera dil na dukhana.!!

Teri sansoN mein tha,
Meri Rooh ka thikana.!
Bhula na yuN mujhe,
Yaad kar guzara zamana.!!

Kai tere chahne wale,
Suna hai ye fasana.!
Ek aawaz de to,
Ho zamana sara diwana.!!

Seekhe koyi tujh se,
Dil le mukar jaana.!
Bat-bat pe hasna,
Dil tera hai Aashiqana.!!

Aa tujhe dikha duN,
Pak wafa ka tarana.!
Teri chaht teri kar,
DuN pyaar ka nazarna.!!

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
भीगा बदन.!!
MAR 14
Posted by dilkashshayari
उफ़ ये बारिश और तेरा भीगा बदन.!
पानी में आग लगाता तेरा बदन.!!

मुहब्बत कैसे ना होगी तू ही बता.!
दिल में उमंग जागता तेरा बदन.!!

वैसे कम हसीन नहीं जान-ए-जहाँ.!
तुझे दिलकश बनाता भीगा बदन.!!

बारिश भी इतराती है तुझे भिगो.!
चूम लेती जो बहाने से तेरा बदन.!!

खुदा तुझे बचाये गैर नज़र से.!
बस मैं ही देखूँ तेरा ये बदन.!!
Image
Uff ye barish aur tera bhiga badaN.!
Paani mein aag lagata tera badaN.!!

Muhabbat kaise na hogi tu hi bata.!
Dil mein Umang jagata tera badaN.!!

Waise kam hasin nahin jan-e-jahan.!
Tujhe dilkash banaata bhiga badaN.!!

Baarish bhi itraati hai tujhe bhigo.!
Choom leti jo bahane se tera badaN.!!

Khuda tujhe bachaye gair nazarse.!
Bas main hi dekhuN tera ye badaN.!!

Rate this:
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
ज़िंदगी तेरे नाम कर गया हूँ.!!
MAR 13
Posted by dilkashshayari
झूठी नहीं है तेरी शिक़ायत.!
लगता है बेवफा हो गया हूँ.!!

अपने दिल को समझा नहीं पाता.!
क्यूँ इतना संगदिल हो गया हूँ.!!

कभी इस दिल ने भी वफ़ा की थी.!
जाने सब क्यूँ भूल गया हूँ.!!

यूँ ही कोई बेवफा नहीं होता.!
सौच क्यूँ खफा हो गया हूँ.!!

काश समझती बेवफ़ाई की वजह.!
ज़िंदगी तेरे नाम कर गया हूँ.!!

10370_290677487734214_1696581605_n

Jhoothi nahin hai teri Shiqayat.!
Lagta hai bewafa ho gaya huN.!!

Apne dil ko samajha nahin pata.!
Kyun itna Sangdil ho gaya huN.!!

Kabhi is dil ne bhi wafa kee thi.!
Jaane sab kyun bhul gaya huN.!!

Yun hi koyi Bewafa nahin hota.!
Souch kyun khafa ho gaya huN.!!

Kash samajhti bewafai ki wajha.!
Zindgi tere naam kar gaya huN.!!

Rate this:
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
क्या यही ख़ाता है
MAR 12
Posted by dilkashshayari
दुनियाँ में सभी प्यार करते हैं.!
एक मैने कर लिया तो क्या गुनहा किया.!!

मुहब्बत प र सभी एतबार करते हैं.!
फिर मैने कर लिया तो क्या जुर्म किया.!!

लोग घर बसते हैं गर वफ़ा कर के.!
फिर मैने किसी को कैसे तबाहा किया.!!

क्यूँ वफ़ा पर इतना चर्चा हो चला.!
मुहब्बत ही की क्या किसी का बुरा किया.!!

क़बूल-क़बूल-क़बूल में सिर हिला दिया.!
तूने कहा था पहले फिर क्यूँ गीला किया.!!Image

DuniyaN meiN sabhi Pyaar karte haiN.!
Ek maine kar liya to kya gunaha kiya.!!

Muhabbat par sabhi Etbaar karte haiN.!
Phir maine kar liya to kya jurm kiya.!!

Log Ghar basate haiN gar wafa kar ke.!
Phir maine kisi ko kaise tabaha kiya.!!

KyuN Wafa par itna charcha ho chala.!
Muhabbat hi ki kya kisi ka bura kiya.!!

Qabool-Qabool-Qabool mein Sir hila diya.!
Tune kaha tha pahale phir kyuN Gila kiya.!!

Rate this:
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
नज़रों से गिरा हूँ.!!
MAR 9
Posted by dilkashshayari
उसकी नज़रों से गिरा हूँ फिर मुहब्बत की गुंजाइश कैसे.!
जो ना मिल सकेगा उमर भर उसकी दिल को आरज़ू कैसे.!!

उसकी बाहें कभी ज़िंदगी जीने का सहारा हुआ करती थी.!
गैर सेज को सजाता वो आज उसकी चाहत भला करूँ कैसे.!!

अपना ही महबूब जब यक़ीन करना छोड़ चुका है तो फिर.!
शिक़वे-शिक़ायतों के मायने क्या हों मिन्नतें फिर कैसे.!!

वक़्त की गर्दिश थी या हालत की साजिश खुदा ये तो बता.!
अपने बंदे का बीच मझधार में लिया इम्तहान कैसे.!!

मुहब्बत गर नासूर बन कर ज़िंदगी जीने को मजबूर करे.!
पल-पल मौत से मुलाक़ात बता “सागर” फिर हो ना कैसे.!!

Image
Uski nazaroN se gira huN phir muhabbat ki gunjaish kaise.!
Ab jo na mil sakega umar bhar uski dil ko aarzoo kaise.!!

Uski baheiN kabhi zindgee jeene ka sahara hua karti thi.!
Gair sej ko sajata wo aaj uski chahat bhala karuN kaise.!!

Apna hi Mehboob jab Yaqeen karna chod chuka hai to phir.!
Shiqwe-ShiqayatoN ke Maine kya hoN MinnateiN phir kaise.!!

Waqt ki Gardish thi ya Halat ki Sajish Khuda ye to bata.!
Apne bande ka beech majhdhar meiN liya ImtahaaN kaise.!!

Muhabbat gar Nasoor ban kar Zindgi jine ko majboor kare.!
Pal-pal Mout se mulaaqat bata “Sagar” phir ho na kaise.!!

Rate this:
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
कभी किया था प्यार तूने भी “सागर” से.!!
MAR 9
Posted by dilkashshayari
ना मिली तो टूट कर बिखर जाऊँगा.!
तेरी यादें लिए मैं ना जी पाऊँगा.!!

जिस को देखे बिना क़रार नहीं आता मुझे.!
उस को पलकों से दूर कैसे कर पाऊँगा.!!

उमर भर साथ देने का वादा करती थी.!
कभी सौचा तेरे बिन कैसे जी पाऊँगा.!!

गैर की हो क्यूँ चिढ़ाती है तूँ मुझे.!
अपने अरमान लिए दुनियाँ छोड़ जाऊँगा.!!

कभी किया था प्यार तूने भी “सागर” से.!
तेरी बेवफ़ाई देख अब मैं मर जाऊँगा.!!Image

Na mili to toot kar bikhar jaaoonga.!
Teri yadeiN liye main na jee paaoonga.!!

Jis ko deke bina qarar nahiN aata mujhe.!
Us ko palkoN se Door kaise kar paaoonga.!!

Umar bhar sath dene ka waada karti thi.!
Kabhi soucha tere bin kaise ji paaoonga.!!

Gair ki ho kyuN chidhaati hai tun mujhe.!
Apne armaan liye Duniyan chod jaaoonga.!!

Kabhi kiya tha pyaar tune bhi “Sagar” se.!
Teri bewafai dekh ab main mar jaaoonga.!!

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
आँखें.!!
MAR 8
Posted by dilkashshayari
कितनी प्यारी हैं सनम की आँखें.!
मेरे दिल को दीवाना बनाती आँखें.!!

अकेला ही चला था जीवन की राह.!
साथ हो गयी हैं सनम की आँखें.!!

मैकदे में भी इतना नशा ना होगा.!
बिन पिए नशा करती तेरी आँखें.!!

बिन तेरे जीने का मज़ा कुछ नहीं.!
ज़िंदगी क्या है बताती तेरी आँखें.!!

तेरे बिन कुछ और नज़र नहीं आता.!
तेरी तस्वीर दिखती मेरी आँखें.!!

दो पल भी अगर मुझे नज़र ना आए.!
ज़ुस्तज़ु में अश्क बहती ये आँखें.!!

तू मेरी है मेरी ही रहेगी हरदम.!
पल-पल एहसास करती तेरी आँखें.!!

क्यूँ करूँ किसी गैर का एतबार बता.!
मेरे खवाब संवारती तेरी आँखें.!!

22222
Kitni pyaari hain Sanam ki AankheiN.!
Mere dil ko deewana banati AankheiN.!!

Akela hee chalaa tha Jeewan kee Rah.!
Sath ho gayi hain Sanam ki AankheiN.!!

Maikade mein bhi itna nasha na hoga.!
Bin Piye nasha karati teri AankheiN.!!

Bin tere Jine ka maja kuch hi nahiN.!
Zindgi kya hai batati teri AankheiN.!!

Tere bin kuch aur nazar nahin aata.!
Teri tasweer dikhati meri AankheiN.!!

Do pal bhi agar mujhe nazar na aaye.!
Zustzu mein Ashq bahati ye AankheiN.!!

Tu meri hai meri hi rahegee harduam.!
Pal-pal ehsas karati teri AankheiN.!!

KyuN karuN kisi gair ka etbar bata.!
Mere khawab sanwarti teri AankheiN.!!

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
ना जाने कब.!!
MAR 8
Posted by dilkashshayari
जाने किस घड़ी ज़िंदगी की शाम होगी.!
जान जाएगी और मौत से मुलाक़ात होगी.!!

ना रहूँगा फिर भी क़हक़हे होंगे.!
हर खुशी होगी ज़िंदगी चलती रहेगी.!!

किसीकी किसीको ज़रूरत नहीं किसीको है.!
कमी नहीं तुझे मेरे घर कमी होगी.!!

बुत हूँ मिट्टी का मिट्टी में मिलना है.!
जब तक “वो” चाहे मौत नहीं होगी.!!

दुनियाँ ना याद करे गुज़रा ज़माना.!
तुझ को भी मेरी चाहता भूलनी होगी.!!Image

Jaane kis ghadi zindgee ki shaam hogi.!
Jaan jaayegi aur Mout se mulaqat hogi.!!

Na rahunga phir bhi kehkahe honge.!
Har khushi hogi zindgee chalti rahegi.!!

Kisi ki kisi ko jarurat nahin kisi ko hai.!
Kami nahin tujhe mere ghar kami hogi.!!

But huN mitti ka mitti mein milna hai.!
Jab tak “Wo” chaahe Mout nahin hogi.!!

Duniyan na yaad kare guzra zamaana.!
Tujh ko bhi meri chaahata bhulni hogi.!!

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
बेवफा मुहब्बत.!!
MAR 7
Posted by dilkashshayari
अपनी ज़िंदगी में पल-पल तेरी ख्वाहिश की.!
यही वजह है हर एक से मैने बेवफ़ाई की.!!

शिद्दत से चाहा खुदा समझ पूजा तुझे.!
क्यूँ अपने अरमानो की मैने जग हंसाई की.!!

तेरी तस्वीर दिल में सज़ा हर पल देखी.!
गैर हो जान फिर भी तुझ संग वफ़ाई की.!!

ना होना था मेरी क्यूँ वफ़ा को सहारा दिया.!
थाम हाथ गैर का मुहब्बत की रुसवाई की.!!

Image

Apni zindgee mein pal-pal teri khwahish kee.!
Yahi wajaha hai har ek se maine bewafai kee.!!

Shiddat se chaha Khuda samajh pooja tujhe.!
Kyun Apne armaano ki maine jag hansai kee.!!

Teri tasweer dil mein saja har pal dekhee.!
Gair ho jaan phir bhi tujh sang wafai kee.!!

Na hona tha meri kyun wafa ko sahara diya.!
Thaam hath gair ka muhabbat ki ruswai kee.!!

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
मुहब्बत का फलसफ़ान.!!
MAR 7
Posted by dilkashshayari
दोस्ती में जब तक़रार होती है.!
तभी प्यार की बरसात होती है.!!

जो चलते कदम फूँक-फूँक कर.!
उनकी तबीयत ही नासाझ होती है.!!

शक़ की मुहब्बत में जगहा नहीं.!
जो करे उसकी वफ़ा नाक़ाम होती है.!!

आशिक़ दिल एक बार ही धड़कता है.!
धड़के बार-बार तो रुसवाई होती है.!!

पाक वफ़ा का दम भरते हैं सभी.!
अब उलफत में कहाँ वो बात होती है.!!Image

Dosti mein jab taqraar hoti hai.!
Tabhi Pyaar ki barsaat hoti hai.!!

Jo chalte kadam foonk-foonk kar.!
Unki tabiyat hi nasajh hoti hai.!!

Shaqki muhabbat mein jagha nahin.!
Jo kare uski wafa naqam hoti hai.!!

Aashiq dil ek bar hi dhadkata hai.!
Dhadke bar-bar to ruswai hoti hai.!!

Pak wafa ka dun bharte hain sabhi.!
Ab Ulfat mein kahan wo bat hoti hai.!!

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
क़बूल मुहब्बत कराईए ना.!!
MAR 4
Posted by dilkashshayari
रूठे हुए को मनाइये ना.!
सूखे गुलशन को खिलाइए ना.!!

मनाओगे तो वो करीब आयेंगे.!
राज दिल का भी बता पायेंगे.!!
खफा होती है दुनिया होने दो.!
उन्हें हमदम अब बनाइए ना.!!

ज़िंदगी में बमुश्किल मिलती वफ़ा.!
खूबसूरत कभी नहीं होती फ़िज़ा.!!
लुटा सारी खुदाई उनकी हँसी पर.!
क़बूल उनसे मुहब्बत कराईए ना.!!Image

Roothe huye ko manaaiye na.!
Sookhe gulshan ko khilaiye na.!!

Manaoge wo kareeb aayeinge.!
Raj dil ka bhi bata paayeinge.!!
Khafa hoti hai Duniya hone do.!
Unhein humdam ab banaiye na.!!

Zindgi mein bamushkil milti wafa.!
Khoobsurat kabhi nahin hoti Fiza.!!
Luta sari Khudai unki hansee par.!
Qabool unse Muhabbat karaiye na.!!

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
मगरूर इंसान.!!
MAR 4
Posted by dilkashshayari
ज़िंदगी को पहचानता नहीं.!
मौत कब-कहाँ जनता नहीं.!!
ताहा उमर किया अनपा-अपना.!
रिश्ते किसी को मानता नहीं.!!

हूँ इंसान अपनी बोली है.!
जानवरों-सी ज़ुबान थोड़ी है.!!
बिन मतलब बिन किसी काम.!
खाक़ गली की छानता नहीं.!!

एक दिन सब छोड़ जाना यहाँ.!
कल का थोर-ठिकाना नहीं.!!
फिर भी हर पल लालच करता.!
पीर-पैगंबर कोई मानता नहीं.!!

Image

Zindgee ko pahchanta nahiN.!
Mout kab-kahan janta nahiN.!!
Taha Umar kiya apna-apna.!
Rishte kisi ko maanta nahiN.!!

Hun Insaan apni bolee hai.!
JanwaroN-si juban thodi hai.!!
Bin matlab bin kisee kaam.!
Khaq Galee ki chanata nahiN.!!

Ek din sab chod jana yahaaN.!
Kal-kaa thor-thikaana nahiN.!!
Phir bhi har pal laalach karta.!
Pir-Paigmbar koyi manta nahiN.!!
Ye Sach hai.!! “Par Sabhi Insaan Ek Se Nahin Hote”

Rate this:
1 Vote
share
Press This

Posted in Ghazals Zone | Edit
Leave a comment
तेरे बिन.!!
MAR 3
Posted by dilkashshayari
तुझे देखूं ना जब तक जी भर क़रार नहीं आता.!
के जैसे भंवरे बिन कली पर शबाब नहीं आता.!!
बहुत चाहा तुझे मैखाने में पी भूल जाऊं मैं.!
मुमक़िन होता गर बोतल में नज़र नहीं आता.!!
तेरी आँखों की जुम्बिश है जो दीवाना हुआ हूँ मैं.!
बचना चाहूं तो भी रास्ता कोई नज़र नहीं आता.!!
तेरे होंठो की तब्ब्सुम पर ये दिल बाग-बाग हुआ है.!
जो छू लूँ इनको तो कोई और काम याद नहीं आता.!!
ये कैसी बेबसी है की खुद को भुला बैठा “सागर”.!
के तेरे बिन जीने में अब मज़ा कुछ भी नहीं आता.!!Image
Tujhe dekhun na jab tak Jee bhar qarar nahin aata.!
Ke jaise bhanware bin kalee par shabab nahin aata.!!
Bahut chaha tujhe maikhane mein pee bhul jaon main.!
Mumqeen hota gar tu Botal mein nazar nahin aata.!!
Teri aankhon ki Jumbish hai jo diwana hua hun main.!
Bachna chaahun to bhi rasta koyi nazar nahin aata.!!
Tere hontho ki tabbsum par ye dil bag-bag hua hai.!
Jo choo lun inko to koyi aur kaam yaad nahin aata.!!
Ye kaisi bebasi hai ki khudko bhula baitha “Sagar”.!
Ke tere bin Jine mein ab maja kuch bhi nahin aata.!!